बार बार पेशाब आने के उपचार करने के घरेलू नुस्खे

बार बार पेशाब आने के उपचार करने के घरेलू नुस्खे

बार बार पेशाब आने से छुटकारा – अगर हमें हद से ज्यादा पेशाब बार बार आ रही है तो यह एक बीमारी भी हो सकती है। ज्यादा पेशाब आने का मतलब सिर्फ शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक कारण भी हो सकता है। हमारे बॉडी को जो पोषक तत्व मिलते हैं उसे हमारी बॉडी अलग करती है और जो अपौष्टिक है उसे मूत्र के मार्फत बॉडी से बाहर निकालती है।

बार बार पेशाब आने के उपचार

बार बार पेशाब आने के उपचार

अगर आप बहुत मानसिक तनाव में हैं या तो आप बहुत डरे-डरे से रहते हो इसके कारण भी यह समस्या हो सकती है। तो आइए दोस्तों इस लेख में हम आप को बार बार पेशाब आने के उपचार बताएंगे।

बार बार पेशाब आने के कारण :-

  1. अगर आपको ज्यादा चाय कॉफी या शराब पीने की आदत है तो इस वजह से भी ज्यादा पेशाब आने की समस्या हो सकती है।
  2. छोटे बच्चों के पेट में अगर बैक्टीरिया हो तो यह भी इस पर असर करता है।
  3. अपने ब्लैडर में इंफेक्शन होने के वजह से भी हमें पेशाब ज्यादा आती है।
  4. सर्दियों में पेशाब अधिक आती है।
  5. डायबिटीज के मरीजों को यह बीमारी होती है।
  6. प्रेग्नेंट महिलाओं में में भी यह समस्या दिखाई देती है।

बार बार पेशाब आने के उपचार करने के घरेलू नुस्खे:-

  1. अगर आप रोजाना सुबह-शाम तिल के लड्डू का सेवन करते हो तो आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।
  2. अंगूर खाने से भी हम इस इलाज से मुक्तता प सकते है।
  3. बूढ़े लोगों में बार बार पेशाब आने की समस्या ज्यादा होती है। इसलिए अगर आप रात को सोने से पहले छुआरे खाते हो और दूध पीते हो तो आप इस समस्या से जल्द ही छूट सकते हो।
  4. रोजाना आपने ब्रेकफास्ट में दो केले का इस्तेमाल कीजिये।
  5. हर रोज एक गिलास पानी में आधा चम्मच बेकिंग सोडा लीजिए। ऐसा करने से आपकी यूरिन की पीएच बैलेंस को नियंत्रण में रखेगा।
  6. अगर आप रोजाना 304 तुलसी के पत्ते और एक चम्मच शहद खाली पेट लेते हो तो बार बार पेशाब आने की समस्या से छुटकारा पा सकते हो।
  7. अपनी खाने में अगर आप दही का इस्तेमाल करते हो तो दही में मोजुत बैक्टेरिया ब्लाद्देर में के हानिकारक बैक्टेरिया को मार देते है।इससे हमे इस बीमारी से राहत मिलती है।
loading...

The Author

kaise kare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कैसे करे हिंदी में © 2018
%d bloggers like this: